Breaking News
Home / ज्योतिष / सालों बाद गणेश चतुर्थी पर बन रहा है शुभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त व पूजन विधि

सालों बाद गणेश चतुर्थी पर बन रहा है शुभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त व पूजन विधि

हिंदू धर्म में गणेश चतुर्थी का पर्व काफी महत्व रखता है, इस बार यह त्योहार 2 सितंबर यानि की सोमवार के दिन पड़ने वाला है। बताते चलें कि यह त्योहार हर साल भादो माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्री गणेश की स्थापना की जाती है और कुल दस दिनों तक इनकी अराधना की जाती है यानि की अनंत चतुर्दशी तक, इसके बाद ग्यारहवें दिन यानि की 12 सितंबर को अनंत चतुर्दशी इनकी विदाई कर दी जाती है। कई लोग पंडाल में गणेश जी की स्थापना करते हैं तो कई लोग अपने घरों में भी करते हैं, तो आज हम आपको बताएंगे कि आखिर गणेश स्थापना करने का क्या है शुभ मुहूर्त

ज्योतिषियों का कहना है कि इस साल वही शुभ संयोग बन रहा है जो भगवान गणेश के जन्म के समय बना था, भादो माह के शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि से इस त्योहार की शुरूआत हो जाएगी और इस बार 11 दिनों तक गणेश महापर्व का उत्सव मनाया जाएगा। 2 सितंबर को चतुर्थी तिथि सूर्योदय से पूर्व की लग जायेगी जो पूरे दिन रहेगी।

जानें गणेश स्थापना के शुभ मुहूर्त

हिन्दुओं का प्रमुख त्यौहार गणेश चतुर्थी 2 सितम्बर दिन सोमवार है- इस दिन इन शुभ चौघडियों में करें अस्थाई मृतिका गणेश स्थापना-

1- प्रातः – 6 बजे से 7 बजकर 30 मिनट तक- अमृत
2- सुबह – 9 बजे से 10 बजकर 30 मिनट तक- शुभ
3- दोपहर – 1 बजकर 30 मिनट से 3 बजे तक- चल
4- दोपहर – 3 बजे से 4 बजकर 30 मिनट तक- लाभ
5- शाम – 4 बजकर 30 मिनट से 6 बजे तक- अमृत
6- शाम – 6 बजे से 7 बजकर 30 मिनट तक- चल

गणेश चतुर्थी की पूजा विधि

आइए जानें गणेश चतुर्थी के दिन आखिर कैसे करें पूजा, सबसे पहले तो इसके लिए आपको प्रात:काल ब्राह्ममुहूर्त में उठकर स्नान करके केवल मिट्टी से बने गणेश जी की प्रतिमा ही स्थापित करें। इसके बाद षोडशोपचार विधि से उनका पूजन करें, इतना ही नहीं इनकी पूजा करने के बाद धरती में देखते हुए चंद्रमा को अर्घ्य देकर दर्शन करना चाहिए। श्रीगणेश पूजा में चतुर्थी के दिन गणपति को 21 लड्डुओं का भोग लगाकर उसी भोग को प्रसाद रूप में सभी को बांटना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *