Breaking News
Home / बॉलीवुड / नन्हे तैमूर को नहीं मिलेगा, सैफ अली खान की प्रॉपर्टी से कोई भी हिस्सा, जानिए बड़ी वजय-

नन्हे तैमूर को नहीं मिलेगा, सैफ अली खान की प्रॉपर्टी से कोई भी हिस्सा, जानिए बड़ी वजय-

सैफ अली खान और करीना कपूर के बेटे तैमूर अली खान 20 दिसंबर 2018 को 2 साल के पूरे हो गए। सैफ अली खान और करीना कपूर अपने बेटे तैमूर का दूसरा बर्थडे साउथ अफ्रीका में सेलिब्रेट कर रहे हैं। तैमूर अली खान स्टार किड है जो हमेशा ही सोशल मीडिया पर छाए रहते हैं। इनसे जुड़ी छोटी से छोटी खबर को लोग बड़े चाव से पढ़ते हैं। तैमूर अली खान की कोई भी तस्वीर मीडिया में आते ही तुरंत ही वायरल हो जाती है, और हो भी क्यों ना ये इतने क्यूट जो हैं।

आप सब तो यह तो जानते ही हैं कि, तैमूर पटौदी खानदान के वारिस हैं। अगर बात करें पटौदी खानदान की तो यह तो आप सभी जानते हैं कि यह खानदान देश के रईस खानदान में से एक है, जिसके पास संपत्ति की भरमार है। परंतु आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इतनी संपत्ति होने के बावजूद सैफ अली खान अपने बेटे तैमूर को अपनी संपत्ति का वारिस नहीं बना पाएंगे। आइए जानते हैं क्या इसके पीछे की खास वजह।

दरअसल खबरों के मुताबिक पटौदी खानदान की संपत्ति विवादों से घिरी हुई है। इस खानदान की पूरी मूवेबल और इममूवेबल प्रॉपर्टी एनिमी प्रॉपर्टी एक्ट की जद में है। किस एक्ट के मुताबिक इस प्रॉपर्टी का कोई भी नॉमिनी अगर अपने बेटे को प्रॉपर्टी का वारिस बनाना चाहता है, तो उसके लिए उसे हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट मैं मुकदमा करना पड़ेगा, जिसको जीतने के बाद ही वह अपने बेटे को प्रॉपर्टी का वारिस बना सकता है।

खबरों की मानें तो सैफ के परदादा के पास कुल 5000 करोड़ की संपत्ति थी। जिसकी देखरेख सैफ के पिता नवाब पटौदी के बाद उनकी माता शर्मिला टैगोर ने किया। बाद में सैफ की बहन सबा ने इस प्रॉपर्टी की देखरेख की। खबरों के अनुसार नवाब पटौदी में किसी प्रकार की वसीयत तैयार नहीं की थी। जिसकी वजह से इस प्रॉपर्टी के कई वारिस हो गए जिनमें सैफ की दोनों बहन, सैफ अली खान की पहली पत्नी के दोनों बच्चे, तथा करीना कपूर के बेटे तैमूर अली खान।

खबरों के अनुसार पटौदी खानदान की यह संपत्ति शुरुआत से ही विवादों से घिरी हुई थी। दरअसल भोपाल के नवाब हमीदुल्ला खान ने जायदाद का वारिस अपनी बड़ी बेटी आबिदा को बनाया था, जो पाकिस्तान चली गई थीं। इसके बाद इस प्रॉपर्टी पर मंझली बेटी साजिदा सुल्तान के परिवार का कब्जा हो गया, जिनके पोते हैं सैफ अली खान। हमीदुल्ला खां का कोई बेटा नहीं था। बड़ी बेटी आबिदा पाकिस्तान चली गई थीं और सबसे छोटी बेटी राबिया अपने ससुराल चली गई थीं। इसलिए मंझली बेटी साजिदा सुल्तान ही नवाब की वारिस बनीं।

साजिदा सुल्तान की शादी पटौदी के नवाब इफ्तिखार अली से हुई थी। उनके एक बेटा और दो बेटियां हुईं। बेटे का नाम मंसूर अली खां पटौदी था। सालेहा सुल्तान और सबीहा सुल्तान उनकी बेटियां थीं, जिनकी शादी हैदराबाद में हुई। मंसूर अली खान पटौदी ने एक्ट्रेस शर्मिला टैगोर से शादी की। बेटा होने के चलते पूरी जायदाद मंसूर अली खां पटौदी ने संभाली और उनके बाद शर्मिला टैगोर और सैफ अली खान इसे संभाल रहे हैं।

साल 2015 में केंद्र सरकार द्वारा जारी के एक आदेश के अनुसार पटौदी खानदान की संपत्ति का वारिस साजिदा खान को नहीं बल्कि उनकी बड़ी बहन आबिदा को माना गया, जो पाकिस्तान चली गयी थी। ऐसे में जब संपत्ति का वारिस आबिदा को घोषित कर दिया गया तो साजिदा यानी सैफ अली खान की दादी का अधिकार सम्पत्ति से खत्म हो गया, इस तरह से सैफ अली खान का मालिकाना हक भी संपत्ति से हट गया। यही वजह है कि सैफ अली खान तैमूर अली खान का पटौदी खानदान की संपत्ति का वारिस नहीं बना सकते।

Source of Information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *