Breaking News
Home / ज्योतिष / मुसीबत आने से पहले तुलसी का पौधा दे देता है संकेत, वक़्त रहते कर ले उपाय

मुसीबत आने से पहले तुलसी का पौधा दे देता है संकेत, वक़्त रहते कर ले उपाय

हिंदू धर्म में कई सारी बातें ऐसी है जिनके बारे में आज भी कुछ लोगों को नहीं पता होगा, वहीं आपको बता दें कि इस धर्म में आस्था को लेकर कुछ बातें ऐसी भी बताई गई है जिनपर लोग असानी से विश्वास नहीं कर पाते हैं और उसे अंधविश्वास का नाम दे देते हैं। आज हम आपको तुलसी के पौधे से संबंधित कुछ ऐसी जानकारी देने जा रहे हैं जो शायद आपको पता नहीं होगा।

दरअसल हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को माता लक्ष्मी का रूप माना गया है। यही कारण है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां किसी भी तरह की धन की समस्या नहीं होती। इतना ही नहीं इसके अलावा तुलसी का पौधा छोटी मोटी बिमारियों में भी काफी मददगार साबित होता है। यहाँ तक की जिस घर में तुलसी का पौधा होता है उस घर में किसी भी तरह का रोग भी नहीं आता है। हालांकि तुलसी के पौधे को लेकर कई सारी मान्यता है लेकिन यह सच है कि तुलसी के पौधे का जिक्र और उसकी पूजा अवश्य होती है।

वहीं ये भी बता दें कि तुलसी के पौधे के साथ भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। कहा जाता है की जहाँ तुलसी की पूजा होती है उस घर में कभी भी दरिद्रता नहीं आती है। दरअसल आपकी जानकारी के लिए बता दे की, कहा यह भी जाता है की यदि घर में कोई मुसीबत आने वाली हो तो तुलसी का पौधा कुछ संकेत देता है।

सूखने लगता है तुलसी का पौधा

सबसे पहले तो आपको ये बता दें कि घर में लगा तुलसी का पौधा अगर अचानक से सुखने लग जाए तो समझ जाए कि आपके घर पर किसी तरह की मुसीबत आने वाली है। इसलिए आपको इन संकटों से बचने के लिए तुलसी की पूजा करनी चाहिए और अपने इष्ट देव का ध्यान करना चाहिए। ऐसा करने से आपकी मुसीबत आसानी से टल जाएगी।

वास्तुदोष से छुटकारा

अगर आपके घर में किसी भी तरह का वास्तुदोष है तो आपको अपने घर के दक्षिण दिशा में तुलसी का पौधा लगा लेना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से घर के वास्तुदोष खत्म हो जाएंगे। इतना ही नहीं घर में वास्तु दोष खत्म हो जाते है और घर में बरकत भी होगी। वैसे अगर आप हर रोज घर में स्थित तुलसी के पौधे का पूजा करते हैं व उसका ध्यान रखते हैं तो सुख शांति के साथ धन समृद्धि भी अवश्य आती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *